RBI (आरबीआई) – वीडियो केवाईसी को मंजूरी के लिए 50 हजार रुपए का कर्ज

0
147
RBI (आरबीआई)
सार :- आज भारतीय रिजर्व बैंक RBI (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने मीडिया को संबोधित किया. उनके द्वारा यह संबोधन पहले से निर्धारित नहीं था. देश में कोरोना वायरस की महामारी की दूसरी लहर का पीक ने देश में एक भयानक स्तिथि पैदा कर दी है.

विस्तार :- आज भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने मीडिया को संबोधित किया. उनका ये संबोधन पहले से निर्धारित नहीं था. देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का पीक एक भयावह स्तिथि पैदा कर दी है. एक तरफ जहां स्वास्थ्य विभाग की प्रणाली डगमगा गई है, तो दूसरी ओर लोग कालाबाजारी करने से बाज नहीं आ रहे हैं. हालांकि कुछ दिनों से कोरोना वायरस के मामले कुछ कम नजर आ रही है, जो राहत भरी संकेत है. लेकिन राज्यों में लगाए गए लॉकडाउन से जनता परेशान हैं क्योंकि इनका सीधा असर उनकी कमाई पर पड़ रहा हैं. देश की अर्थव्यवस्था को भी इस घड़ी मे संकट से उबारने के लिए कड़े कदम उठाने की जरूरत है. ऐसी स्थिति में केंद्रीय बैंक का यह संबोधन बेहद जरूरी है.

प्रमुख बातें :- 1. उन्होंने कहा कि RBI (आरबीआई) कोरोना वायरस की इस स्थिति मे नजर बनाए हुए हैं कोरोना वायरस की पहली लहर के बाद देश की अर्थव्यवस्था मे अच्छी रिकवरी देखने को मिली थी. COVID-19 के दूसरी लहर की प्रसार को देखते हुए व्यापक और त्वरित कार्रवाई की बहुत आवश्यकता है. विश्व भर में अन्य देशों के अपेक्षा भारत मे तेजी से रिकवरी हुई है. मौसम विभाग ने इस साल सामान्य मानसून रहने का अनुमान लगाया हैं. अच्छे मानसून से ग्रामीण क्षेत्रों में मांग मे तेजी रहने की आवश्यकता है.

2. जनवरी से मार्च के दौरान खपत की दर बढ़ी है. बिजली के खपत में भी तेजी आई है. भारतीय रेल्वे के माल भाड़े मे बढ़ोतरी की गई है अप्रैल ने पीएमआई 55.5 पर पहुंच गया. सीपीआई भी बढ़ा है. यह मार्च मे 5.5 फीसदी था. देश का निर्यात मार्च ने काफी बढ़ा है. भारत सरकार की आकड़ों की माने तो अप्रैल मे यह तेजी से बढ़ा है. दाल-दलहन, तिलहन और दूसरे जरूरी सामान के दाम में बढ़ोतरी दर्ज हुए है. ऐसा कोरोना के कारण सप्लाई चेन की सीरीज टूटने से हुआ है.

3. शक्तिकांत दास ने अपने संबोधन के दौरान कोरोना वायरस की महामारी से लड़ने में मदद के लिए डॉक्टर, नर्स और अन्य स्वास्थ्य सेवा कार्यकर्ताओं और पुलिस कर्मियों का धन्यवाद किया. उन्होंने कहा कि RBI (आरबीआई) विशेष रूप से नागरिकों, व्यापारिक संस्थाओं और दूसरी लहर से प्रभावित संस्थानों के लिए अपने तरफ से सभी संसाधनों को और उपकरणों को तैयार करेगा.

4. आरबीआई ने 2022 तक COVID-19 से संबंधित स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए 50,000 हजार करोड़ की विशेष लिक्विडिटी सुविधा की घोषणा की. इसके जरिए बैंक रेपो रेट पर वैक्सीन मैन्युफैक्चरिंग, वैक्सीन ट्रांसपोर्ट, निर्यातकों को आसान किस्तों पर लोन उपलब्ध कराएंगे. इसके अलावा अस्पतालों, हेल्थ सर्विस प्रोवाइडर्स को भी इनका लाभ मिलेगा.

5. राज्यों के लिए ओवरड्राफ़्ट सुविधा दी जाएगी. ओवरड्राफ़्ट में राज्यों को रियायत मिलेगी. RBI (आरबीआई) गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि प्रायोरिटी सेक्टर के लिए कोविड लोन बुक बनाए जाएंगे.

6. केंद्रीय बैंक ने 10,000 हजार करोड़ रुपए तक के स्मॉल फाइनेंस बैंकों (SFB) के लिए लंबी अवधि के रेपो ऑपरेशन की घोषणा की हैं. इसका उपयोग प्रति उधारकर्ता 10 लाख रुपये तक के लोन के लिए किया जाएगा.

7. RBI (आरबीआई) के गवर्नर ने यह भी कहा कि मौजूदा स्थिति को देखते हुए केवाईसी नियम में कुछ बदलाव किए गए हैं. वीडियो के जरिए KYC को मंजूरी दी गई है. आरबीआई ने 1 दी 2021 तक लिमिटेड KYC के उपयोग की अनुमति दी हैं. Latest WhatsApp Status 2021

यह भी पढ़े

नितिन गडकरी – रिकॉर्ड स्पीड से बनेगा PSA मेडिकल ऑक्सीजन की एडिशनल प्लांट

Twitter Account सस्पेंड होने पर भड़की कंगना रनौत, कहा – गोरे बनाना चाहते हैं गुलाम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here